प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना

दिनांक : 15/05/2016 - | सेक्टर: नागरिक आपूर्ति विभाग

भारत में 24 करोड़ से अधिक परिवारों के घरो में  से 10 करोड़ घरों में अभी भी खाना पकाने के इंधन के रूप में एलपीजी से वंचित है और उन्हें खाना पकाने के लिए प्राथमिक स्रोत के रूप में लकड़ी, कोयले, गोबर-केक आदि पर भरोसा करना पड़ता है। ऐसे ईंधन को जलाने से धुएं का कारण खतरनाक प्रदूषण महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य पर प्रतिकूल प्रभाव डालता है जिससे कई श्वसन रोग / विकार उत्पन्न होते हैं। डब्लूएचओ रिपोर्ट के मुताबिक, एक घंटे में 400 सिगरेट जलने के बराबर गंदे ईंधन से महिलाओं द्वारा धूम्रपान किया जाता है।

प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना (पीएमयूवाई) का उद्देश्य महिलाओं और बच्चों के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए  स्वच्छ खाना पकाने वाले ईंधन – एलपीजी प्रदान करना है, ताकि उन्हें रसोई के धुएँ व अपने स्वास्थ्य से समझौता न करना पड़े तथा असुरक्षित क्षेत्रों से जलौनी इकट्ठा न करना पड़े।

प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने प्रधान मंत्री उज्ज्वला योजना को 1.05.2016 में बलिया, उत्तर प्रदेश में शुरू किया था। और बाद में योजना 15.05.2016 को दाहोद (गुजरात) में माननीय एमओएस (आई सी) एमओपी और एनजी द्वारा शुरू की गई थी और इसमें गुजरात, मध्य प्रदेश और राजस्थान के माननीय मुख्यमंत्रियों ने भाग लिया था। इसके बाद कई राज्य और जिला स्तर श्रीनगर (उत्तराखंड), फैजाबाद (यूपी), संबलपुर (उड़ीसा), लखनऊ (यूपी), पटना (बिहार) और शहडोल (एमपी) में शुभारंभ किए गए|

इस योजना के तहत, बीपीएल परिवारों को अगले 3 वर्षों में प्रति कनेक्शन 1500 रुपये के समर्थन के साथ 5 करोड़ एलपीजी कनेक्शन प्रदान किए जाएंगे। महिला सशक्तिकरण सुनिश्चित करने, विशेष रूप से ग्रामीण भारत में, कनेक्शन परिवारों की महिलाओं के नाम पर जारी किए जाएंगे। रुपये। 8000 करोड़ इस योजना के कार्यान्वयन के लिए आवंटित किया गया है। बीपीएल परिवारों की पहचान सामाजिक आर्थिक जाति जनगणना डेटा के माध्यम से की जाएगी।

यात्रा करे:MyLPG पोर्टल

 

लाभार्थी:

महिला

लाभ:

नि: शुल्क एलपीजी कनेक्शन

आवेदन कैसे करें

ऑनलाइन अर्जी कीजिए